Sri Guru Granth Sahib श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रथम प्रकाश दिवस

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी

 

30 अगस्त 1604 ही के दिन Sri Guru Granth Sahib दा पहली बार प्रकाश स्वर्ण मंदिर गुरुद्वारा श्री अमृतसर सहिब में पांचवें गुरु श्री अर्जुन देव जी द्वारा किया गया था।

श्री गुरु अर्जन देव जी बोलते गये एवं भाई गुरदास पंजाबी भाषा में लिखते गये।
जो 1604 में संपन्न हुआ। नाम दिया आदि ग्रंथ।

श्रीगुरू ग्रंथ साहिब जी को 30 अगस्त 1604 को गुरुद्वारा श्री हरिमंदिर साहिब अमृतसर में पहला प्रकाश हुआ था।
1705 में गुरुद्वारा श्री दमदमा साहिब में दसवें गुरु श्री गुरू गोविंद सिंह जी ने अपने पिता नौवें गुरु (हिंदुओं के प्रथम गुरु) श्री गुरू तेग बहादुर जी के 116 शब्द जोड़ कर गुरू ग्रंथ साहिब जी को पूर्ण किया किया था।

Sri Guru Granth Sahib
 Amritsar Golden Temple.

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का परिचय

 

Sri Guru Granth Sahib सिक्खों के 11 वें गुरू हैं।
जिनको दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने अनन्त काल तक गुरुगद्दी पर विराजमान किया था।

आदेश जारी किया था-

सब सिखन को हुकम है गुरु मान्यो ग्रंथ।
गुरू ग्रंथ साहिब जी में कुल 1430 पृष्ठ हैं।

Sri Guru Granth Sahib में सिर्फ़ सिख गुरुओं के ही उपदेश नहीं है।
बल्कि अन्य हिन्दू संत और अलग धर्म के मुस्लिम भक्तों की वाणी भी सम्मिलित है।

जहाँ सारे संसार में धर्म जाति के नाम पर लोग मर रहें हैं। वहीं श्री गुरु ग्रंथ साहिब में कबीर, रविदास, नामदेव, सैण जी, सघना जी, छीवाजी, धन्ना एवं पांचों समय नमाज़ पढ़ने वाले शेख फ़रीद की वाणी भी दर्ज है।

अपनी भाषा अभिव्यक्ति, दार्शनिकता, संदेश की दृष्टि से श्रीगुरु ग्रन्थ साहिब जी अद्वितीय हैं।
इनकी भाषा की सरलता, सुबोधता एवं सटीकता जहां जनमानस को आकर्षित करती है।

वहीं संगीत के सुरों व 31 रागों के प्रयोग ने आत्मविषयक गूढ़ आध्यात्मिक उपदेशों को भी मधुर व सारग्राही बना दिया है।
गुरु वाणी के अनुसार हमें भगवान की ख़ोज के लिए जंगलों में भटकने की जरूरत नहीं है।
उस परमात्मा को अपने अन्दर खोजने की आवश्यकता है।

Sri Guru Granth Sahib
Sri Guru Granth Sahib

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के विचार- (Sri Guru Granth Sahib)

 

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी में एकु पिता एकसु के हम बारिक…. पृष्ठ 611 एवं अवलि अलह नूरु उपाइआ कुदरति के सभ बंदे…..पृष्ठ 1349 में सभी मनुष्यों को एक ही ईश्वर की संतान मानते हुए समान माना गया है।

सो किउ मंदा आखिअै जितु जंमहि राजानु… पृष्ठ 473 में स्त्री के सम्मान की रक्षा के लिये एवं स्त्रियों को पुरुषों के समान दर्जा दिया गया है।
हक पराइआ नानका उसु सूअर उसु गाई… पृष्ठ 141 में शोषण का विरोध किया गया है।

जे रतु लागै कपड़ै जामा होइ पलीतु।। जो रतु पीवहि माणसा तिन किउ निरमल चीतु।।     पृष्ठ 141

जब खून लगने से कपड़ा गन्दा हो सकता है तो खून चूसने वाले का मन निर्मल कैसे हो सकता है।

आदि गुरू श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी

The post Sri Guru Granth Sahib श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रथम प्रकाश दिवस appeared first on .



Category : golden temple,golden temple images,golden temple in hindi,golden temple photos,golden temple pics,golden temple wallpaper,shri guru granth sahib pehla parkash,sri guru granth sahib,sri guru granth sahib ang,sri guru granth sahib arth in punjabi,sri guru granth sahib bani,sri guru granth sahib birthday,sri guru granth sahib english,sri guru granth sahib in hindi,sri guru granth sahib ji essay in punjabi,sri guru granth sahib ji images,sri guru granth sahib ji quotes,sri guru granth sahib path,sri guru granth sahib punjabi,sri guru granth sahib world university,sri guru granth sahib world university fee structure,धर्म संसार,श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी,श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी इन पंजाबी,श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का पाठ,श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी गुरबाणी,श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी दा पाठ

Comments

Popular posts from this blog

Top 10 Buddha Quotes For Facebook | BestRoyalStatus.Blogspot.Com

Best Diwali Wishes, Greetings, Images and Messages [ 2020 ]

Dhoom 2004 Hindi Movie 405MB BluRay ESubs Download